Monday, December 5, 2022
HomeUncategorizedवैलेंटाइन सप्ताह विश्व भर के प्रेमी जोड़ों के लिए बहुत खास है

वैलेंटाइन सप्ताह विश्व भर के प्रेमी जोड़ों के लिए बहुत खास है

वैलेंटाइन सप्ताह विश्व भर के प्रेमी जोड़ों के लिए बहुत खास है।8 दिन तक प्रेमी जुड़े एक दूसरे के प्यार में खोए हुए रहते है।प्रेमी जोड़े प्यार में मदहोश हो जाते हैं। वैलेंटाइन सप्ताह का आगाज रोज डे से होता है और इसकी समाप्ति वैलेंटाइन डे के साथ होती है।वैलेंटाइन वीक के दूसरे दिन मनाया जाता है प्रपोज डे यानी कि ‘इजहार दिवस’अगर इसे शुद्ध हिंदी में रूपांतरित किया जाए तो इसका मतलब यही है।प्रपोज डे के दिन प्रेमी जोड़े एक दूसरे से अपने प्यार का इजहार करते हैं।वे इस दिन अपने मोहब्बत का इजहार करते हुए पूरे दुनिया के सामने इसे प्रस्तुत करते है।

हालांकि प्रपोज डे या वेलेंटाइन वीक यह विदेशी परंपरा का एक जीता जागता उदाहरण है जिसे पूरा विश्वास अपना रही है और हम भी इसे पूरी तरीके से अपना रहे हैं। प्रपोज डे के दिन प्रेमी जोड़े एक दूसरे को तोहफा देते है। वे तोहफा के रूप में एक दूसरे को फूल मिठाई तथा अन्य और बहुत सारे वस्तुएं भेंट करते हैं।प्रपोज डे अपने प्यार का इजहार करने का एक बहुत ही खास दिन है।यह दिवस बहुत पहले से ही विदेशों में मनाई जाती थी मगर भारतीय इस वैलेंटाइन के परंपरा से अछूते थे।प्रपोज डे के दिन खास कर प्रेमी जोड़े एक दूसरे को गुलाब का फूल तोहफे के रूप में देना पसंद करते हैं क्योंकि गुलाब मोहब्बत का प्रतीक माना जाता है।गुलाब प्रेमी जोड़ों के जिंदगी में खुशबू भरने का कार्य करती है।गुलाब के पंखुड़ियां जिस प्रकार कोमल और मुलायम होती है प्रेमी जोड़े चाहते हैं कि उनका रिश्ता भी गुलाब की पंखुड़ियों की तरह सदैव कोमल और मुलायम रहे।प्रपोज डे के इतिहास के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं इसलिए आज हम आपके समक्ष इसके इतिहास के बारे में जानकारी प्रस्तुत करेंगे।
प्रपोज डे की परंपरा का आगाज जॉन माइकल ओ’लफलिन ने की थी।उन्होंने प्यार में हारे अपने भाई को देखते हुए पहले इस दिन छुट्टी का ऐलान किया गया था। उनका चचेरा भाई जो एक लड़की से प्यार करता था लेकिन अपने प्यार का इजहार करने की हिम्मत कभी नहीं जुटा पाया और बाद में बिना अपने दिल का हाल बताए अपनी लाइफ में आगे बढ़ गया।
माइकल ने भाई की जिंदगी को देखने के बाद प्रपोज डे मनाने का ऐलान किया था।ये प्यार का इजहार करने वालों को हिम्मत देने के लिए तो था ही, शादी के बाद पुनर्विचार और उस रिश्ते को मजबूती देने के लिए भी शुरू किया गया था। हालांकि ये वेलेंटाइन डे के बाद मार्च के महीने में मनाया जाता था,लेकिन बाद में इसे फरवरी महीने की 8 तारीख को भी मनाया जाने लगा ताकि किसी को वैलेंटाइन डे से पहले उसे अपने प्यार का इजहार करने की हिम्मत मिल सके।

प्रेमी या प्रेमिका इस त्योहार को मनाने के बहाने प्रपोज कर सकें।जाहिर है, प्रपोज डे स्पेशली उन लोगों के लिए बना है जो किसी को प्रपोज करना चाहते हैं, लेकिन आत्मविश्वास की कमी या साहस न जुटा पाने के कारण ऐसा नहीं कर पाते हैं। यह दिन लोगों को अपने प्यार का इजहार करने के लिए प्रेरणा और प्रोत्साहन देता है साथ ही प्रपोज करने की हिम्मत भी देता है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments